खबरे WOW: DM अपनी इस तरकीब से बने हर दिल अजीज, CM कमलनाथ ने यूं की तारीफ, पढें खबर TOP NEWS: कमलनाथ सरकार का एक और बड़ा तबादला, 25 IAS और 10 SAS अफसर इधर से उधर, पढें खबर BIG NEWS: बारिश से पहले सीएम कमलनाथ का ये संदेश हो रहा वायरल, पढें खबर और जानें NEWS: अवैध कॉलोनियों को फिर वैध कराने पर रहवासी लामबंद, पढें खबर WOW: जज्बा ऐसा की बंजर जमीन पर फैला दी हरियाली, अब आम के पौधे लगाने की प्रशासन ने दी मंजूरी, पढें खबर OMG ! FATF से ब्लैकलिस्ट होनें से बचने के लिए भारत को मामले में घसीट रहा है पाकिस्तान, पढें खबर NEWS: समाज सेवी प्रोफेसर श्री बंशीलाल जी का पार्थिव शरीर पंचतत्व में विलिन, पढें खबर VIDEO: कनावटी जेल ब्रेक का मास्टरमाइंड विनोद दांगी 4 दिन पुलिस रिमांड पर, हो सकते है कई बड़े खुलासे, जेल प्रहरी ईश्वरचंद और विजेंद्र सिंह धाकड़ गिरफ्तार, देखे विडियों न्‍यूज NEWS: स्वाधिकार अभियान को सभी विभाग गंभीरता से लें, डीएम पुष्‍प, पढें खबर BIG NEWS: पुलिस ने किया बाइक गिरोह का पर्दाफाश, चोरी की 9 बाइक जब्‍त, आरोपी भी गिरफ्तार, पढें खबर BIG BREAKING: कनावटी जेल ब्रेक मामला, जेल प्रहरी ईश्‍वरचंद और विजेंद्रसिंह धाकर गिरफ्तार, षड्यंत्र धारा 120 में हुई गिरफ्तार, पढें खबर EXCLUSIVE: कनावटी जेल ब्रेक पर श्‍याम गुर्जर की इनसाईट स्‍टोरी, जेल प्रहरी पंकित, विजेंद्र, ईश्वर के थे फरार आरोपियों से रिश्‍ते, आरोपी लेखराम बावरी को थी जेल में खुली छूट, घंटो बाते करते थे पंकित और पंकज, जेल से छुडाने के नाम पर हुवा था लेनदेन, पढें खबर OMG: प्रतिभाशाली 34वीं रैंक पर टॉपर भव्या मित्तल अब दिखाएंगी नीमच में अपने तेवर, बनाई गई जिला पंचायत सीईओ, पढें नवीन पाटीदार की खबर OMG ! 11 हजार केवी के झुलतें तार, हो सकता है बडा हादसा, एमपीआरडीसी के अधिकारी बोले, उंचे कराने की कार्यवाही जारी, पढें दिनेश वीरवाल की खबर

NEWS: एमपी के बदले समीकरणों में ये सीट इन दिनों बना चर्चा का विषय, पढिए फिर कहां के पुराने क्षत्रप हुवे आमने सामने

Image not avalible

NEWS: एमपी के बदले समीकरणों में ये सीट इन दिनों बना चर्चा का विषय, पढिए फिर कहां के पुराने क्षत्रप हुवे आमने सामने

नीमच :-

मध्य प्रदेश लोकसभा के रण में तीन सीटें ऐसी हैं, जहां पुराने खिलाड़ी फिर आमने-सामने होंगे और अपनी हार का बदला लेने मैदान में उतरेंगे. एमपी के बदले समीकरणों में ये सीट इन दिनों चर्चा का विषय भी हैं क्योंकि इन सीटों पर पुराने क्षत्रप फिर आमने सामने हैं. जहां एक ओर कांग्रेस के पास मौका है हार का बदला लेने का तो बीजेपी फिर जीत दोहराने के लिए जान झोंक रही है.
दरअसल, एमपी की 29 सीटों में अब तक कांग्रेस 28 तो बीजेपी ने 24 क्षत्रपों को मैदान में उतार चुकी है, जिनमें बीजेपी और कांग्रेस ने कई नए चेहरों को मैदान में उतारा है. शहडोल, देवास समेत कई सीटें ऐसी रही, जहां दोनों पार्टियों ने नई प्रत्याशियों को मैदान में उतारा तो वहीं इस बार 3 सीटें ऐसी हैं जहां रण में फिर पुराने क्षत्रप आमने सामने है.
2014 में हार का मुंह देख चुके कांग्रेस के खिलाड़ी 2018 विधानसभा रिजल्ट को देख इस बार जीत को लेकर कॉन्फिडेंट नजर आ रहे हैं तो वहीं बीजेपी के प्रत्याशियों के सामने बदले समीकरण में जीत दोहराने की चुनौती है

लगातार तीन बार से सांसद रहे राकेश सिंह को महाकौशल में चुनौती

इन 3 सीटों की बात करें तो,
1- जबलपुर लोकसभा सीट
-बीजेपी राकेश सिंह Vs कांग्रेस विवेक तन्खा
-2014 में राकेश सिंह ने 2 लाख वोटों से दी ती विवेक तन्खा को शिकस्त--लगातार तीन बार से सांसद रहे राकेश सिंह को महाकौशल में चुनौती विधानसभा रिजल्ट में इस बार जबलपुर सीट पर 8 में 4-4 सीटें पर बीजेपी-कांग्रेस बराबर है
-50-50 के विधानसभा नतीजों अब दोनों दिग्गज जान झोंक रहे हैं
-एक और राकेश सिंह पर अपनी सीट बचाने की जिम्मेदारी है तो विवेक तन्खा के पास बदला लेने का मौका
-चैंबर नेता के तौर पर पहचाने जाने वाले विवेक तन्खा पर संगठन पर मजबूत पकड़ रखने वाले राकेश सिंह पड़ सकते हैं भारी

2- खंडवा लोकसभा सीट
-बीजेपी नंदकुमार सिंह चौहान Vs कांग्रेस अरुण यादव
-2009 से ये दोनों आमने सामने हैं जहां मुकाबला फिलहाल ऑन वन का है
-2009 में अरुण यादव तो 2014 में नंदकुमार सिंह चौहान जीते,
-अब अरुण यादव के पास हिसाब बराबर करने का मौका

- खंडवा सीट पर नंदकुमार सिंह चौहान को भीतरघात का खतरा, पूर्व मंत्री अर्चना चिटनीस के विरोध से हो सकता है नुकसान
3- मंदसौर लोकसभा सीट
बीजेपी सुधीर गुप्ता Vs कांग्रेस मीनाक्षी नटराजन
-2009 में सांसद रही मीनाक्षी नटराजन को सुधीर गुप्ता ने मोदी लहर में 3 लाख वोटों से हराया
- मीनाक्षी ने 2009 लोकसभा में भेदा था बीजेपी का 30 साल का किला
- मौजूदा वक्त की बात करें तो भाजपा सांसद को लेकर अंदरुनी कलह से खतरा, मीनाक्षी नटराजन का भी नेताओं कार्यकर्ताओं से सीधा संवाद कम है
- मंदसौर सीट पर किसान गोलीकांड का मुद्दा जमकर गुंजा लेकिन बीजेपी को नुकसान नहीं
- मंदसौर सीट पर मोदी मैजिक नहीं चला तो जीत हार का अंतर हजारों में सिमट सकता है
2014 में मोदी लहर में बीजेपी के कब्जे में गई इन तीनों सीटों पर समीकरण बदले हैं. मुकाबला दिलचस्प है. बहरहाल 23 मई को तस्वीर साफ होगी की समीकरणों को साधने में कौन सी पार्टी सफल हो पायी है


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.