खबरे BIG NEWS: विश्‍व जनसंख्‍या दिवस आज, विभिन्‍न स्‍वास्‍थ्‍य संस्‍थाओं में जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन, आमजन को किया जागरूक, पढें कमलेश चौहान की खबर BIG BREAKING: शहर में कोरोना ने पकड़ा नया ऐरिया, अब गांधी वाटिका के पास कोरोना पॉजिटिव मरीज की पुष्टि, पढें डेस्‍क इंचार्ज अभिषेक शर्मा के साथ दीपक खताबिया की खबर MP BY ELECTION: सीएम के ग्वालियर चंबल दौरे से कांग्रेस को सताने लगा डर, टल न जाएं उपचुनाव, पढें खबर BIG NEWS: जावद पुलिस को मिली बड़ी सफलता, 60 लीटर कच्‍ची शराब की जब्‍त, 1 आरोपी को किया गिरफ्तार, जांच शुरू, पढें खबर BIG NEWS: रामपुरा पुलिस को मिली बड़ी सफलता, फर्जी लूट का किया खुलासा, झूठी रिपोर्ट पर न्यायालय में होगा इस्तगासा पेश, पढें अजयसिंह सिसौदिया के साथ शेख ईशाक की खबर VIDEO NEWS: नीमच में लगातार बढ़ रहे कोरोना मरीज, फिर लगा लॉकडाउन, घर से निकले लोग, सब्जी मंडी में उमड़ी भीड़, देखे मुश्ताक अली शाह की रिपोर्ट NEWS: जनता से झूठे वादे कर कांग्रेस आई सत्ता में, अब सत्ता से ही बेदखल कांग्रेस सरकार, मनीष शर्मा, पढें खबर BIG NEWS: नाबालिक का अपहरण करने वाले आरोपीगण को न्‍यायालय ने भेजा जेल, पढें दिलीप सौराष्‍ट्रीय की खबर BIG NEWS: 8 साल के मासूम का अपहरण कर की 30 लाख की फिरौती की मांग, फिर कर डाली हत्‍या, आरोपी दम्पत्ति को भेजा जेल, पढें दिलीप सौराष्‍ट्रीय की खबर BIG NEWS: जिला विशेष टीम और गंगवार थाना पुलिस की संयुक्‍त कार्रवाही, अवैध बजरी का परिवहन करतें 7 डंपर किए जब्‍त, 7 आरोपियों को किया गिरफ्तार, पढें दिनेश मेनारिया की खबर NEWS: शिवराज सरकार को 100 दिन पूरें, जनकल्‍याणकारी उपलब्धियों को लेकर बैठक का आयोजन, पढें मोहन नागदा की खबर BIG NEWS: असम व बंगाल में चाय के बागान से नहीं आ रही चाय पत्ती, चाय की चुस्की होगी मंहगी, बढ़ेंगे दाम, पहुंचेंगे यहां तक, पढें खबर BIG NEWS: सीमाएं सील होंगी, इन जिलों में लगाना पड़ रहा है कर्फ्यू, जानने के लिए पढ़े खबर TOP NEWS: कांग्रेस को उतना ही पता है जितना उनके नाना नेहरू 'भारत एक खोज' में लिखा, भाजपा, पढें खबर

WOW: वर्ल्ड कप में तीन देशों का राष्ट्रगान है इस भारतीय कवि का गीत-संगीत, पढें खबर

Image not avalible

WOW: वर्ल्ड कप में तीन देशों का राष्ट्रगान है इस भारतीय कवि का गीत-संगीत, पढें खबर

डेस्‍क :-

इंग्लैंड में चल वर्ल्ड कप में तीन देश एक भारतीय कवि के लिखे गीत का संगीत को अपने राष्ट्रगान में ढाल कर गा रहे हैं. इस भारतीय कवि का नाम गुरुदेव रविंद्र नाथ टैगोर है. नोबेल अवार्ड प्राप्त टैगोर ऐसी हस्ती थे, जिन्होंने कई देशों की संस्कृति को अपने गीत, संगीत, चित्रकला या दर्शन से प्रभावित किया है

वो तीन देश जो इस वर्ल्ड कप में गुरुदेव टैगोर के लिखे गीत या संगीत से प्रभावित राष्ट्रगान को गाते हुए नजर आ रहे हैं, वो हैं-भारत, बांग्लादेश और श्रीलंका. किस तरह से टैगोर ने इन तीनों देशों को प्रभावित किया और इनके राष्ट्रगान क्या हैं, वो हम आपको आगे बताते हैं

आमार सोनार बांगला- 

वर्ल्ड कप में जब भी बांग्लादेश की टीम मैदान में आती है तो मैच शुरू होने से पहले पूरे माहौल में जब उसका राष्ट्रीय गीत आमार सोनार बांगला, आमी तोमये भालोबासी..बजना शुरू होता है तो ये स्टेडियम में बैठे हर किसी के कानों में अलग ही तरह की मिठास घोलता है. 2.34 मिनट का ये नेशनल एंथेम बांग्लादेश ने 1971 में तब एडाप्ट किया था, जब ये देश पाकिस्तान से बंटकर आजाद हुआ था

हालांकि टैगोर ने ये गीत तब लिखा था जब 1905 बंगाल को अंग्रेज बांटने वाले थे और समूचे बंगाल में एकता का एक संदेश देना था. तब टैगोर ने अपनी कलम उठाई और आमार सोनार बांगला जैसी कालजयी कविता लिखी. देखते ही देखते ये कविता समूचे बंगाल के लोगों की जुबान पर समा गई

उन दिनों हर कोई इस कविता का पाठ करता था. बंगाल के स्कूलों, संगठनों और संस्थाओं में लोग बहुत फख्र से गुरुदेव की इन पंक्तियों को दोहराते थे. उल्लेखनीय बात ये है कि इस राष्ट्रगान का संगीत भी गुरुदेव का दिया हुआ है

जन-गण-मन अधिनायक जय हो-

वर्ल्ड कप में भारतीय टीम जब कोई मैच खेलने उतरती है तो फिजाओं में जन-गण-मन अधिनायक जय हे भारत भाग्य विधाता..गूंजने लगता है. लोग सावधान की मुद्रा में खड़े हो जाते हैं. 52 सेकेंड के इस राष्ट्रगान के साथ जब तिरंगा लहराता है तो दिल और दिमाग में राष्ट्रभक्ति और राष्ट्रीय भावना हिलोरें मारने लगती है. ये राष्ट्रगान गुरुदेव रविद्र नाथ टैगोर ने 1911 के आसपास लिखा था. जिसे सबसे पहले कोलकाता में 1911 में राष्ट्रीय कांग्रेस के अधिवेशन में गाया गया

इसके बाद ये लगातार कांग्रेस के अधिवेशनों का अनिवार्य अंग भी बना. आजादी के आंदोलन में स्वतंत्रता सेनानियों के बीच भी ये गीत बहुत लोकप्रिय था. देश की आजादी के बाद 24 जनवरी 1950 को जन-गण-मन अधिनायक जय हे राष्ट्रीय गीत के तौर पर संविधान में शामिल किया गया

श्रीलंका माता, श्रीलंका माता- 

तीसरा देश जो इस वर्ल्ड कप में टैगोर से प्रभावित नेशनल एंथेम श्रीलंका माता, श्रीलंका, नमो नमो नमो नमो माता...गा रहा है, दरअसल उसकी रचना टैगोर के ही असर से हुई और इसमें रविंद्र संगीत का इस्तेमाल हुआ है

दरअसल इस गीत को कंपोज करने वाले आनंद समराकून शांति निकेतन के विद्यार्थी थे. उन पर गुरुदेव रविंद्र नाथ टैगोर का बहुत असर था. जब वो श्रीलंका लौटे तो उन्होंने गुरुदेव की प्रेरणा से ये गीत लिखा और फिर उसे रविंद्र संगीत के साथ कंपोज किया. ये गीत श्रीलंका में इतना लोकप्रिय हो गया कि इसे 1950 में राष्ट्रीय गान के तौर पर स्वीकार किया गया
इस तरह वर्ल्ड कप में जो दस टीमें खेल रही हैं, उसमें तीन टीमें ऐसी हैं जो गुरुदेव टैगोर के रचे गीत या संगीत को इस प्रतियोगिता में राष्ट्रगान के रूप गा रही हैं


SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.