खबरे BIG BREAKING : सीएम शिवराज सिंह चौहान ने किया मंत्रिमंडल के विभागों का बंटवारा, जगदीश देवड़ा बने वित्त मंत्री और जानिये ओमप्रकाश सखलेचा को मिला कौनसा विभाग BIG BREAKING : केबिनेट मंत्री ओमप्रकाश सखलेचा के सोमवार के सभी कार्यक्रम रद्द, मंत्री सखलेचा कुछ देर में होंगे भोपाल रवाना BIG REPORT : पार्टीयो में नाबालिग लड़कियों को शराब पिलाकर करवाते थे डांस और फिर यौनशोषण, पढ़िए फिर क्या हुआ BIG NEWS: भोपाल के लिए साईकिल यात्रा कुक्षी से रवाना, कुक्षी व बाग नगर में पाटीदार का हुआ जगह-जगह स्वागत, पढें खबर CORONA FIGHT: खुशियों की दास्तां, कोरोना से मुक्ति की और जिलें ने बढ़ाए कदम, 5 और लोगों ने जीती कोरोना से जंग, रहवासियों ने किया जमकर स्‍वागत, पढें खबर BIG REPORT: कैबिनेट मंत्री औमप्रकाश सखलेचा पहुंचे नीमच, जिला कलेक्‍टर जितेंद्र राजें और पुलिस कप्‍तान मनोज कुमार रॉय ने की भेंट, पढें खबर WOW: रेलवे 30 जून 2021 तक दे रही बड़ी रियायत, यात्र‍ियों को मिलेगी ये नई सुविधा, पढें खबर BIG REPORT: अशोक गहलोत की सरकार खतरे में !... हरियाणा के होटल में पहुंचाए गए 24 विधायक, पढें खबर BIG BREAKING: मंदसौर में फिर कोरोना विस्‍फोट, 10 माह के बच्‍चें सहित 10 नए कोरोना मरीजों की पुष्टि, प्रशासन ने कसी कमर, पढें खबर BIG BREAKING: कांग्रेस विधायक ने विधानसभा सदस्यता से दिया इस्तीफा, अब राज्य की 25 सीटों पर होंगे उपचुनाव, पढें खबर CORONA FIGHT: 6 लोगों ने फिर जीती कोरोना से जंग, स्‍वस्‍थ होकर लौटें अपनें घर, प्रशासन ने ताली बजाकर किया उत्‍साहवर्धन, पढें खबर OMG ! ग्रामीण क्षेत्रों में नीलगाय का आतंक, पलक झपकतें ही कर देती है फसलें चौपट, अन्‍नदाता परेशान, पढें बद्रीलाल गुर्जर की खबर EXCLUSIVE VIDEO NEWS: दो होटलों पर चल रहा था चाय और नाश्ता, पुलिस ने भाजी लाठियां, लॉकडाउन का उल्‍लंघन करने वाले देखे राजेश पंवार की ये विडियो न्‍यूज COVID19 ALERT: मध्‍यप्रदेश के इस शहर में बच्चों में तेजी से फैल रहा कोरोना, 11 दिन में 44 बच्चे पॉजिटिव, पढें खबर

HEALTH: कुपोषण से जूझ रहे हैं भारत के बच्चे, डायबीटीज का भी खतरा

Image not avalible

HEALTH: कुपोषण से जूझ रहे हैं भारत के बच्चे, डायबीटीज का भी खतरा

डेस्‍क :-

नई दिल्ली: भारत में 5 साल की आयु से कम आयु वाले 35 फीसदी बच्चे स्टंटिंग (अपनी उम्र के मुताबिक कम हाइट के) हैं, 17 फीसदी बच्चे वास्टिंग (लंबाई के मुकाबले कम वजन के) हैं और वहीं, 33 फीसदी का अंडरवेट (उम्र और लंबाई दोनों के मुकाबले कम वजन) हैं। यह बात हाल ही में हुए एक सर्वे में पता चली है। स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने पिछले दिनों देश के पहले कॉम्प्रिहैन्सिव नैशनल न्यूट्रिशन सर्वे (CNNS) के नतीजे जारी किए जिसमें 0-19 वर्ष की आयु के बच्चों में पौष्टकिता की जांच के लिए यह सर्वे किया गया था।

यह सर्वे यूनिसेफ की मदद से 2016-18 के दौरान देशभर के 30 राज्यों व केंद्र शासित राज्यों में कराया गया था। सर्वे में 0-19 आयु के 1 लाख 12 हजार बच्चों व किशोरों का आंकलन किया गया है और 51 हजार से ज्यादा बायोलॉजिकल सैंपल भी लिए गए ताकि बच्चों का माइक्रोन्यूट्रियंट लेवल जांचा जा सके और नॉन-कम्यूनिकेबल डिजीज के लिए होने वाले जोखिम को चेक किया जा सके।
CNNS सर्वे के आंकड़ों में पता चला है कि कुपोषण की समस्या में थोड़ी कमी आई है। 1-4 वर्ष की आयु के बच्चों में विटमिन A और आयोडीन की कमी की रोकथाम के लिए चलाए जा रहे सरकारी कार्यक्रमों का भी सकारात्मक प्रभाव पड़ा है। हालांकि सर्वे में चेताने वाले आंकड़े भी हैं जो दर्शाते हैं कि बच्चों और किरोशों में ओवरवेट और ऑबेसिटी की समस्या लगातार बढ़ रही है जिससे नॉन-कम्यूनिकेबल डिजीज जैसे डायबीटीज का खतरा (10 फीसदी) तक रहता है।आंकड़े जारी होने के बाद इस बात पर जोर दिया जा रहा है कि किस तरह इस डेटा का एनालिसिस कर बाल कुपोषण को जड़ से खत्म करने और गैर-संचारी रोगों (नॉन-कम्यूनिकेबल डिजीज) के खतरों को रोकने के लिए प्रभावशाली कार्यक्रम बनाए जाएं। स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने राष्ट्रीय सर्वे में जारी आंकड़ों को महत्वपूर्ण बताते हुए कहा कि इससे बच्चों व किशारों में कुपोषण व गैर-संचारी रोगों से लड़ने और इन्हें खत्म करने के लिए मजबूत नीतियों व कार्यक्रमों को बनाने में मदद मिलेगी। यूनिसेफ में भारत के प्रतिनिधि डॉ. यासमिन अली हक ने कहा, 'सीएनएनएस के आंकड़े हैरान करने वाले हैं इससे बच्चों की जिंदगियां बचाने और प्रत्येक बच्चे को पूर्ण रूप से समर्थ बनाने का हमारा संकल्प और मजबूत हुआ है और यह साफ हुआ है कि इस ओर तेजी से काम किए जाने की जरूरत है।

सर्वे की मुख्य बातें
पोषण अभियान 2018-22 के महत्वाकांक्षी लक्ष्य है जिसमें सालाना बच्चों में कुपोषण की समस्या (स्टंटिंग और ओवरवेट) कम हो और लो-बर्थ वेट यानी जन्म के समय कम वजन की समस्या को भी सालाना 2 प्रतिशत तक कम किया जाए। इसके अलावा, सभी आयु वर्गों में अनीमिया को प्रति 3 प्रतिशत तक कम करना भी पोषण अभियान का मुख्य लक्ष्य है जिसे भारत में पोषण के लिए व्यापक स्तर पर जन आंदोलन चलाकर हासिल किया जाएगा। सीएनएनएस के आंकड़े बताते हैं कि स्कूल जाने की आयु वाले बच्चों और किशोरों पर अभी भी कुपोषण का खतरा है और बहुत से क्षेत्रों में अभी भी काफी काम करने की जरूरत हैः

 

  • 10-19 वर्ष के प्रत्येक 4 में से 1 किशोर अपनी आयु की तुलना में दुबला है।
  • 10-19 आयु के 5 फीसदी किशोर ओवरवेट हैं या मोटापे का शिकार हैं।

कुपोषण के अलावा देश में हर आयु वर्ग के बच्चों, किशोरों और महिलाओं में अनीमिया पीड़ितों की बढ़ती संख्या भी देश के लिए चिंता का विषय है। कई स्टडीज से यह साबित हुआ है कि खानपान की खराब आदतें जैसे आयरन व विटमिन सी से भरपूर भोजन (फल व सब्जियां) न खाना और स्वास्थ्य सेवाओं तक सीमित पहुंच अनीमिया के बड़े कारण हैं। सीएनएनएस के अनुसार अनीमिया छोटे बच्चों और किशोर लड़कियों को सबसे अधिक प्रभावित करता है:
 

  • दूसरे आयुवर्ग के मुकाबले अनीमिया की समस्या 1-4 साल के बच्चों में काफी ज्यादा (41 प्रतिशत तक) है।
  • सर्वे में 1-4 साल के 41 प्रतिशत बच्चे, 5-9 साल के 24 प्रतिशत और 10-19 आयु के 29 प्रतिशत किशोर अनीमिक पाए गए। - अनीमिया के पोषण संबंधी अन्य कारणों में जैसे विटमिन बी 12 भी बच्चों में चेक किया गया। सर्वे में शामिल 1-19 साल के बच्चों में विटमिन बी-12 की कमी 14-31 प्रतिशत तक पाई गई जिसमें किशोरों की संख्या ज्यादा थी।
  • स्कूल जाने वाले बच्चों में नॉन-कम्यूनिकेबल डिजीज का रिस्क पाया गया जिसमें 10 पर्सेंट बच्चे प्री-डायबिटीज और हाई ट्राइग्लिसराइड के लक्षण नजर आए। 4 फीसदी किशोरों में हाई कोलेस्ट्रोल और बैड कोलेस्ट्रोल और 5 फीसदी किशोरों में हाई ब्लडप्रेशल पाया गया।

SHARE ON:-

image not found image not found

© Copyright BABJI NEWS NETWORK 2017. Design and Developed By PIONEER TECHNOPLAYERS Pvt Ltd.