BREAKING NEWS
BIG NEWS : राजस्थान की चित्तौड़गढ़ पुलिस और क्रेटा.. <<     KHABAR : नो तारीख को होने वाली वर्ष की चतुर्थ नेशनल.. <<     KHABAR : शासन की मंशा अनुरुप 01 दिसंबर को एड्स.. <<     KHABAR : नगर परिषद रामपुरा के कार्यालय में हुई.. <<     KHABAR : कलेक्टर गुप्ता ने प्रेसवार्ता कर आगामी.. <<     BIG NEWS : पुलिस थाना शामगढ की चौकी चंदवासा को.. <<     NEWS : यूनिटी स्पोर्ट्स क्लब, मोर्निंग फुटबाल.. <<     KHABAR : 1 दिसम्बर को होगी मतगणना के लिये नियुक्त.. <<     KHABAR : एक लाख रुपये से अधिक के बकायादारों को.. <<     KHABAR : माध्यमिक विद्यालय छोटी कसरावद के प्रधान.. <<     BIG NEWS : नीमच जिले का ग्राम लेवड़ा और बघाना का सोनू.. <<     KHABAR : शहीद भीमा नायक शासकीय स्नातकोत्तर.. <<     KHABAR : श्वानों का आतंक जारी, राष्ट्रीय पक्षी मोर.. <<     BIG NEWS : मौसम विभाग की चेतावनी, एमपी में फिर होगी.. <<     KHABAR : कलेक्टोरेट में स्वास्थ्य विभाग ने किया.. <<     REPORT : मध्यप्रदेश राज्य सुरक्षा अधिनियम के तहत.. <<     GOOD NEWS : तलाक लेने आई महिला का बसा घर, पुलिस.. <<     KHABAR : जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक में कलेक्टर.. <<     BREAKING: राजधानी में भीषण हादसा, ट्रक की चपेट में.. <<     KHABAR : स्वच्छ सर्वेक्षण 2024 के अंतर्गत नगर पालिका.. <<    
वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन के लिए..
October 14, 2023, 1:45 pm
KHABAR : शतरंज ने बदला बाल अपचारियों का जीवन, अंतरराष्ट्रीय स्पर्धा में हुनर से जीत लिया सोना, भोपाल के बाल संप्रेषण गृह के पांच बच्चों ने विश्व शतरंज संघ की अंतराष्ट्रीय प्रतियोगिता में दिखाया दम, पढ़े खबर 

Share On:-

भोपाल। माता-पिता के पारस्परिक झगड़े, दुर्व्यवहार के कारण भी बच्चों पर बुरा प्रभाव पड़ता है। मां-बाप का कलह-पूर्ण जीवन, चारित्रिक दोष, बच्चों को अपराधी बनाने का महत्वपूर्ण कारण है। पारिवारिक उथल-पुथल, कलह, दुर्व्यवहार आदि भी बच्चों के मस्तिष्क पर बुरा प्रभाव डालते हैं और वे गलत मार्ग अपनाते हैं। ऐसे ही कुछ बच्चे शहर के बाल संप्रेषण गृह में भी हैं, जिन्हें सुधारने या उनका जीवन बदलने के लिए उन्हें लाया जाता है। जिसके लिए कई प्रयास किए जा रहे हैं, जो आज रंग भी ला रहे हैं। शहर के बाल संप्रेषण गृह के पांच बच्चे इसका उदाहरण हैं, जो शतरंज का सहारा लेकर अपना जीवन बदल रहे हैं। उन्होंने इस खेल में वैश्विक स्तर पर अपनी मेधा का डंका बजा दिया। विश्व शतरंज संघ की ओर से आयोजित तीसरी फिडे अंतरमहाद्वीप आनलाइन शतरंज प्रतियोगिता में 50 देशों की टीमों को हराकर स्वर्ण पदक अपने नाम किया है। उन्होंने फाइनल में गत विजेता सर्बिया को हराकर यह उपलब्धि हासिल की। उन्होंने इस प्रतियोगिता में यूथ इंडिया बी टीम का प्रतिनिधित्व किया। इस कैटेगरी में पहली बार भारत की टीम ने इंडियन आयल कारपोरेशन के संयोजन से भागीदारी की थी और पहली ही बार में खिताब भी जीत लिया। उनकी इस जीत पर किशोर न्याय (जुवेनाइल जस्टिस) बोर्ड की प्रधान न्यायाधीश श्रुति जैन, सदस्य डा. कृपाशंकर चौबे समेत अन्य लोगों ने बधाई देते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की।

इन बच्चों को नया जीवन देने वाले प्रशिक्षक दीपक कुमार बासू ने बताया कि मनोवैज्ञानिक आधार पर मानसिक अस्थिरता, हीनभावना तथा बुद्धि की कमी भी बाल अपराध का कारण है। जिन परिवारों में पारिवारिक अशान्ति तथा कलह का वातावरण रहता है, उन परिवारों में बच्चा यह तय नहीं कर पाता है कि उसे कैसा व्यवहार करना चाहिए। यह स्थिति बच्चे को अपराधी बना देती है। इसे रोकने के लिए अंतरराष्ट्रीय शतरंज संघ (फिडे) शतरंज के जरिए उनका जीवन बदलने की कोशिश कर रहा है। जिसमें बाल अपचारियों के लिए शतरंज की प्रतियोगिता कराई जाती है। जिसमें दुनिया भर के बाल अपचारी हिस्सा लेते हैं। भोपाल के बाल संप्रेषण गृह में रहने वाले इन बच्चों ने देश के लिए स्वर्ण पदक जीतकर अपना जीवन बदल दिया है।
पहचान छुपाने बच्चों को पहनाया मास्क
भारतीय टीम के प्रशिक्षक निखलेश जैन ने बताया कि इन बच्चों को दो माह का प्रशिक्षण दिया गया। जिसमें पूरे देशभर से 40 बच्चों को चयनित कर उनका कैंप लगाया, जहां उन्हें शतरंज की शिक्षा और कंप्यूटर चलाना सिखाया। अंत में पांच बच्चों की टीम बनाई गई, जिसमें भोपाल के बाल संप्रेषण गृह के बच्चे पांच चयनित हुए। बच्चों की पहचान छुपाने के लिए उन्हें मास्क पहनाया गया। उनकी प्रतियोगिता आनलाइन कराई गई। जिसमें दुनिया के 118 देशों की टीमों ने हिस्सा लिया। यह प्रतियोगता 16 दिनों तक चली।

VOICE OF MP
एडिटर की चुनी हुई ख़बरें आपके लिए
SUBSCRIBE