BREAKING NEWS
नेतृत्व क्षमता का विकास विद्या भारती की.. <<     KHABAR : पीएमश्री केंद्रीय विद्यालय-1 में 53वीं.. <<     वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन देने के.. <<     BIG NEWS : नीमच जिले का ग्राम पिपलोन और प्लाट पर.. <<     खरगोन में डीजे पर प्रतिबंध का एक साल संचालकों.. <<     खरगोन में डीजे पर प्रतिबंध का एक साल संचालकों.. <<     BIG REPORT : ग्रेजुएट युवाओं के लिए रोजगार के अवसर,.. <<     वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन देने के.. <<     KHABAR : एमपी में स्कूली बच्चों के एडमिशन को लेकर.. <<     VIDEO NEWS: सवालों के घेरे में शाजापुर जिला.. <<     BIG NEWS : नीमच जिले का ग्राम सारसी और 35 साल का युवक,.. <<     वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन देने के.. <<     REPORT : शासकीय रामचंद्र विश्वनाथ महाविद्यालय.. <<     SHOK SAMACHAR : नहीं रही पुष्पा शारदा, परिवार में शोक.. <<     वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन देने के.. <<     SHOK SAMACHAR : नहीं रहे कन्हैयालाल भूत, परिवार में शोक.. <<     SHOK SAMACHAR : नहीं रहे ओमप्रकाश मंगल, परिवार में शोक.. <<     वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन देने के.. <<     KHABAR : विद्या भारती की छात्र परिषद का शपथ विधि.. <<     SHOK SAMACHAR : नहीं रही नारायणी बाई गुर्जर, परिवार में.. <<    
वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन के लिए..
June 8, 2023, 8:33 pm
BIG NEWS : एमपी में विधानसभा इलेक्शन की बिसात पर संतों की कथाओं के आसरे हिंदुत्व का बड़ा दांव, और क्या वजह है ट्रिपल एस के सुर्खियों में आने की, पढ़े जर्नलिस्ट मुस्तफा हुसैन की ये ख़ास रिपोर्ट 

Share On:-

राजनीति जो बोलती है वो करती नहीं और जो करती है उसका पता आम लोगों को कभी चल नहीं पाता। एमपी में विधानसभा चुनाव 2023 की बिसात बिछ चुकी है। प्रदेश के दोनों प्रमुख राजनैतिक दल बीजेपी और कांग्रेस अपना हिड्डन रोडमेप बना चुके हैं और उस पर चलना शुरू कर दिया है। जैसा लगातार हम कहते आ रहे हैं की इस चुनाव में बीजेपी का प्रमुख अस्त्र हिंदुत्व होगा, ठीक उसी लाईन को बीजेपी आगे बढ़ाती दिख रही है। इस हिंदुत्व के एजेंडे पर काम करने के कई तरीके हैं जैसे मंदिरों का जीर्णाेध्दार करवाना या फिर उन भजन गायकों को मैदान में उतारना जो बीजेपी की लाईन को फॉलो करते है या फिर उन संतों के कार्यकर्म करवाना जो हिंदुत्व की लाईन को आगे बढ़ाते हैं।
 
संतो की कथाओं की बीजेपी में होड़-
यदि इस समय की बात की जाए तो सरकार में बीजेपी के सिटिंग विधायकों और मंत्रियों में संतों की कथाये करवाने की होड़ मची है और इन संतों में दो नाम सबसे प्रमुख है जिसमे पहला है बागेश्वर धाम सरकार पंडित धीरेन्द्र शास्त्री महाराज और दूसरा है कुबरेश्वर धाम सीहोर के पंडित प्रदीप मिश्रा ये दोनों ही संत बीजेपी की हिंदुत्व की लाइन पर एक दम फिट बैठते हैं। हाल ही में बागेश्वरधाम सरकार का आयोजन 7 जून से मंदसौर जिले की सुवासरा विधानसभा के खेजडिया बालाजी पर चल रहा है जो 9 जून तक चलेगा। यहां आयोजक सरकार के मंत्री हरदीप सिंह डंग है। जमीन पर सर्वे की रिपोर्ट्स को आकलन का आधार मानें तो मंत्री डंग की हालत खस्ता है। यदि वे खुद अपने दम पर कोई आयोजन करें तो उनको अपनी स्थिति का बेहतर अंदाज़ा लग जाए, लेकिन बागेश्वर धाम सरकार के नाम पर हज़ारों की भीड़ खेजडिया बालाजी में जुटी और वहाँ उनका सफल आयोजन चल रहा है।
 
अब पंडित प्रदीप मिश्रा का भोपाल में बड़ा आयोजन-
ठीक इसी तर्ज पर अब प्रदेश सरकार में चिकित्सा शिक्षा मंत्री विशवास सारंग भी एक बड़ा आयोजन भोपाल में पंडित प्रदीप मिश्रा का करवाने जा रहे हैं। पीपुल्स माल के पीछे 250 एकड़ में यह आयोजन 10 जून से 14 जून तक चलेगा। यहां शिवपुराण का आयोजन होगा और रुद्राक्ष भी बाँटेंगे, लेकिन वो अब ऑनलाइन घर पहुंचाए जाएंगे क्योकि पिछली बार सीहोर में जब लाखों लोग रुद्राक्ष के लिए जुटे थे तो भगदड़ मच गयी थी और लोगों की जान भी गयी थी। उसी के चलते अब भोपाल में केवल एड्रेस लिख लिया जाएगा और रुद्राक्ष घर भिजवाए जाएंगे। इस आयोजन में मंत्री सारंग का भरोसा है कि 5 लाख से अधिक श्रद्धालु जुटेंगे। इनसे पूर्व कई मंत्री और विधायक एमपी में इस तरह के आयोजन कर चुके हैं, जिसमें भजन गायक कन्हैया मित्तल के भी कई आयोजन हुए हैं, क्योकि वे भी बीजेपी की लाईन को फॉलो करते हैं। 

कमलनाथ की कहानी-
उधर दूसरी तरफ कमलनाथ कहते हैं में हिन्दू हूँ पर बेवकूफ नहीं, लेकिन वे भी इसी लाइन पर चलते दिखते हैं। हाल ही में बजरंग सेना नामक संगठन ने उनको समर्थन दिया और इस आयोजन में उन्हें बजरंग सेना ने हनुमान जी का सोंटा भेंट किया। इन सब घटनाक्रमों से साफ़ है कि आगामी विधानसभा चुनाव पूरी तरह हिंदुत्व के ट्रेक पर जाते हुए दिखता है और बीजेपी को पता है यदि उसका यह पत्ता चला तो फिर कांग्रेस तिनके की तरह उड़ जायेगी, लेकिन अब कांग्रेस के सामने चुनौती है की वो इस चुनाव को करप्शन और किसानों के मुद्दों पर लड़े या फिर बीजेपी के हिंदुत्व की लाईन की फॉलोवर बन जाए।

ट्रिपल एस फिर चर्चाओं में-
सवाई सिंह सिसौदिया यानी की बीजेपी के ट्रिपल एस जिनका डंका कभी पूरे प्रदेश में बजता था एक बार फिर सुर्खियों में है। कल हमने केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर की बेटी की शादी का हाल लिखा था और बताया था की ट्रिपल एस एक बार फिर मुख्यधारा में जुड़ते दिखाई दे रहे हैं। उसी बात को आज प्रदेश के दर्जन भर से अधिक अखबारों ने अपनी सुर्खिया बनाया है और लिखा है बारात के स्वागत से विदाई के आंसुओं तक में शरीक हुए सवाई सिंह सिसौदिया, ट्रिपल एस का यूं सुर्खियों में आना कोई मामूली बात नहीं। वे एक मंझे हुए राजनीतिज्ञ है और लम्बे समय तक उन्होंने बीजेपी के चाणक्य कहे जाने वाले स्व सुंदरलाल पटवा के साथ काम किया है। इससे लगता है कोई ख़ास वजह है जिसके कारण अब ट्रिपल एस खुलकर सामने आये हैं।
--
वॉइस ऑफ़ एमपी की मुहीम- बेज़ुबान पक्षियों के लिए दान करें सकोरे या फिर अपने मकान की छत पर रखे सकोरे, भीषण गर्मी में सुने इनकी फ़रियाद।

VOICE OF MP
एडिटर की चुनी हुई ख़बरें आपके लिए
SUBSCRIBE