BREAKING NEWS
KHABAR : 120 मिनिट विश्व शान्ति के लिए राजयोग तपस्या.. <<     ACCIDENT: #सतवास #तहसील में #कार और #ट्राले की.. <<     वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन देने के.. <<     KHABAR : कुकड़ेश्वर नगर में होगा निःशुल्क.. <<     BIG BREAKING : हत्या या मौत, कनावटी की हेमलता और जब भाई.. <<     वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन देने के.. <<     KHABAR : कल्याण कमलमय समर्थक समिति ने मनाया समाज.. <<     KHABAR : प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री सुंदरलाल.. <<     वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन देने के.. <<     BIG REPORT : मनासा मंडी प्रशासन की लापरवाही, कृषि उपज.. <<     BIG NEWS : नीमच जिले की मनासा पुलिस और भारत वर्सेस.. <<     वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन देने के.. <<     MANDI BHAV : एक क्लिक में पढ़े कृषि उपज मंडी मनासा के.. <<     GOLD & SILVER RATE : यहां क्लिक करेगें तो जानेंगे प्रदेश.. <<     वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन देने के.. <<     HOROSCOPE TODAY : धनु, मकर और कुंभ राशि वालों के मान.. <<     BIG REPORT : मंदसौर जिले के सीतामऊ, दलौदा व मंदसौर.. <<     वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन देने के.. <<     KHABAR : स्विमफ्लाय स्पोर्ट्स क्लब ने मनाया योग.. <<     BIG NEWS : नीमच शहर का किलेश्वर रोड और कच्ची बस्ती.. <<    
वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन के लिए..
September 19, 2023, 7:16 pm
BIG NEWS : दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई और मछुआरो को आर्थिक सहायता को लेकर दिया ज्ञापन, पढ़े अजयसिंह सिसोदिया के साथ शेख इसाक की खबर  

Share On:-

रामपुरा। अत्यधिक बारिश एवं गांधीसागर बांध में अत्यधिक जल भराव के कारण रामपुरा क्षेत्र में निवासरत हाड़ा खेड़ी समिति के सभी मछुआरो जो गांधीसागर जलाशय के में मत्स्याखेट कर अपने परिवार का जीवन यापन करते हैं। अत्यधिक बारिश के कारण जल प्रवाह में समस्त सदस्यो की जाल बह कर चली गई जिसके कारण सभी मछुआरो को बड़ा आर्थिक नुकसान हुआ है एवं मछुआरो के सामने भूखे मरने की नौबत आ चुकी है। एक तरफ संपूर्ण जिला प्रशासन निचली बस्तियों में रह रहे रहवासियों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाने में लग रहा, परंतु प्रशासन द्वारा बड़ी चूक करते हुए गांधी सागर जलाशय के बैकवॉटर में मत्स्याखेट कर रहे 2000 मछुआरों के जीवन के प्रति कोई ठोस कदम ना उठाते हुए उन्हें बीच पानी में ही रहने दिया। जबकि उक्त जल प्रवाह में किसी भी मछुआरे की जान पर बन सकती थी ऐसे में मछुआरों को पानी से बाहर नहीं निकाल कर मत्स्य महासंघ द्वारा ठेकेदार के दबाव में आकार मछुवारो की जान के साथ खेला गया है।
जिसके कारण मछुआरों की सभी जाल एवं रोजगार के साधन जिसके साथ मछुआरे मत्स्याखेट कर अपने परिवार का जीवन यापन करते थे वह जल प्रवाह में बह कर चली गई। अभी वर्तमान में मछुआरों ने 15 दिन पहले ही नई जाल उधार पैसे से खरीद कर अपना रोजगार चालू किया था। ऐसे में उनकी जाल पानी में बहकर चल जाने से उन पर दोहरी मार गिरी है। एक तरफ बाजार का उधार एवं दूसरी तरफ नए सिरे से काम करने को लेकर उनके पास ना तो पैसा है ना ही वापस उधार लाने की क्षमता। उक्त जल प्रवाह में प्रति मछुआरा कम से कम 25000 रूपए का जाल बहकर जल प्रवाह के साथ चला गया। अतः मछुआरो के साथ हुए इस घटनाक्रम पर तुरंत संज्ञान लेकर दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई कर मछुआरो को आर्थिक सहायता प्रदान की जाए ताकि वह पुनः अपना रोजगार प्रारंभ कर सके।

VOICE OF MP
एडिटर की चुनी हुई ख़बरें आपके लिए
SUBSCRIBE