BREAKING NEWS
BIG NEWS : भाजपा मे कौन टारगेट कर रहा है महाराज और.. <<     वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन के लिए.. <<     REPORT : सफाई कर्मचारी आयोग के अध्यक्ष प्रताप.. <<     BIG NEWS : पंजाब पुलिस ने 8 सालों से फरार चल रहे.. <<     REPORT : शहीद भीमा नायक शासकीय स्नातकोत्तर.. <<     VIDEO NEWS: शाजापुर मे अधर मे लटका प्रधानमंत्री.. <<     NEWS : पुलिस प्रशासन ने 4 दिन पहले की गई हत्या कि.. <<     VIDEO NEWS: नीमच में माहेश्वरी समाज ने निकाली भव्य.. <<     NEWS : भारत विकास परिषद शाखा नीमच ने मनाई वीर.. <<     वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन के लिए.. <<     BIG REPORT : स्वास्थ्य मंत्री ने जाने जिले की.. <<     NEWS : सरकार के सरंक्षण में भ्रष्टाचार चरम पर-.. <<     VIDEO : नीमच के गांधीभवन पर लगे पोस्टर से मचा बवाल,.. <<     REPORT : अनाज मंडी में होगा सर्व समाज के 166 जोडांे.. <<     BIG NEWS : 5 साल पुराना मामला और 35 साल की गीता, जब अवैध.. <<     वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन के लिए.. <<     VIDEO NEWS : खरगोन जिले की महती बिस्टान उद्धवहन.. <<     REPORT : कलेक्टर शिवराज सिंह वर्मा की अध्यक्षता.. <<     KHABAR : रोटरी क्लब नीमच कैंट ने पल्स पोलियो.. <<     REPORT : नपा कार्यालय में हुआ पथ विक्रेताओं की.. <<    
वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन के लिए..
May 26, 2023, 8:21 pm
KHABAR : किसान खरीफ फसल की बुवाई के पूर्व बीज का अंकुरण कर परीक्षण करे, फसल विविधीकरण भी अपनाए, पढ़े खबर  

Share On:-

सीहोर। खरीफ फसल की बुवाई के पूर्व किसान भाई बीज का अंकुरण कर परीक्षण करे। सोयाबीन के 100 दानों का अंकुरण करें, जिसमें 75 से अधिक दाने का अंकुरण होने पर बीज बुवाई के योग्य है। 

कृषि विकास विभाग ने जिले के किसान भाई से आग्रह किया है कि खरीफ बुआई के पूर्व बीज का अंकुरण आवश्य करें तथा फसल के लिए उर्वरक व्यवस्था समिति या निजी व्यापारी से अपनी आवश्यकता अनुसार क्रय कर भंडारित करें, जिससे बुवाई के समय पर कृषकों को किसी भी प्रकार की असुविधा न हो। किसान भाइयों आपके गांव में ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी द्वारा प्राकृतिक खेती को अपनाने के बारे में जानकारी दी जा रहीं होगी। 

किसान भाई प्रायोगिक तौर पर प्राकृतिक खेती के घटक को सोयाबीन फसल पर प्रयोगकर परिणाम ले। आगामी फसलों के अधिक रकबे पर प्राकृतिक खेती करें। बीज उर्वरक एवं कीटनाशक क्रय से संबंधित संस्थाओं से पक्के बिल लेवे। फसल विविधीकरण अपनाकर एक से अधिक फसल लेवे ताकि अल्प, अधिक वर्षा होने वाले नुकसान की भरपाई हो सके। साथ ही बीज का चयन करते हुए नवीन किस्म (10 वर्ष के अन्दर) का चयन करें।

VOICE OF MP
एडिटर की चुनी हुई ख़बरें आपके लिए
SUBSCRIBE