BREAKING NEWS
वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन देने के.. <<     KHABAR : मनासा विकसखंड के कुकड़ेश्वर संस्कृति भवन.. <<     BIG BREAKING : नीमच जिले में गुंडाराज, एक और प्रकरण में.. <<     वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन देने के.. <<     BIG REPORT : पुलिस कप्तान ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर.. <<     NEWS : एक पेड़ देश के नाम से रोटरी क्लब ने किया.. <<     NEWS : मंदबुद्धि युवती का यौन शोषण करने वाले.. <<     BIG NEWS : मंदसौर जिले में भयानक सड़क हादसा, दो.. <<     वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन देने के.. <<     REPORT : स्वास्थ्य एवं महिला बाल कल्याण समिति की.. <<     NEWS : प्रभारी सचिव ने किया सांवलिया जी राजकीय.. <<     NEWS : प्रभारी सचिव ने ली अधिकारियों की बैठक,.. <<     NEWS : उप मुख्यमंत्री डॉ. प्रेमचंद बैरवा रविवार.. <<     BIG NEWS ; जायसवाल की पारी जिम्बाब्वे पर पड़ी पारी,.. <<     NEWS : नगरपालिका निम्बाहेडा के नाम पर फर्जी.. <<     NEWS : विधायक के नेतृत्व मे कई संगठनों द्वारा.. <<     वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन देने के.. <<     REPORT : नीमच जिले के 120 हाई स्कूल व हायर सेकेंडरी.. <<     REPORT : जिला पंचायत सीईओ गुरु प्रसाद ने किया.. <<     वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन देने के.. <<    
वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन के लिए..
June 8, 2023, 6:38 pm
KHABAR : औसतन 1200 कॉल प्रतिदिन अटेंड कर रही हैं पशु एंबुलेंस, अब तक तय की 2 लाख किमी से अधिक की दूरी, पढ़े खबर 

Share On:-

मंदसौर। पशुपालन मंत्री प्रेमसिंह पटेल ने बताया कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा 12 मई को सभी विकासखडों को रवाना की गई पशु एंबुलेंस से पशुपालकों को चिकित्सा में काफी मदद मिलने लगी है। चलित पशु चिकित्सा इकाइयों (पशु एंबुलेंस) द्वारा औसतन 1200 कॉल प्रतिदिन अटेंड किये जा रहे हैं। पशु एंबुलेंस अब तक 2 लाख 12 हजार 509 कि.मी. की दूरी तय कर चुकी हैं, जो औसतन प्रति वाहन 523 किलोमीटर है। उल्लेखनीय है कि केन्द्र शासन की पशु चिकित्सालय एवं ओषधालय स्थापना एवं सुद्दढ़ीकरण- चलित पशुचिकित्सा योजना में 12 मई को 406 पशु एंबुलेंस का लोकार्पण किया गया था। योजना का संचालन जिला पशु कल्याण समिति के माध्यम से किया जा रहा है। चलित पशु चिकित्सा इकाई से उपचार कराने पर पशु पालक को 150 रूपये का शुल्क जमा करना होता है। केन्द्र शासन द्वारा इकाई संचालन के लिए राशि उपलब्ध करवाई जा रही है।
वाहनों में स्टाफ की व्यवस्था एक निरंतर प्रक्रिया है। यदि कोई स्टाफ किसी कारण से कार्य छोड़ देता है तो उसकी तत्काल वैकल्पिक व्यवस्था का प्रावधान भी रखा गया है। इस संबंध में शासकीय अमले को निर्देश दिये गये हैं, जिससे पशुपालकों को पशु एंबुलेंस से घर पहुँच सेवाएँ मिलती रहें।
--
वॉइस ऑफ़ एमपी की मुहीम- बेज़ुबान पक्षियों के लिए दान करें सकोरे या फिर अपने मकान की छत पर रखे सकोरे, भीषण गर्मी में सुने इनकी फ़रियाद।

VOICE OF MP
एडिटर की चुनी हुई ख़बरें आपके लिए
SUBSCRIBE