BREAKING NEWS
KHABAR : मंदसौर जिले में माहेश्वरी समाज ने धूमधाम.. <<     वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन देने के.. <<     KHABAR : मनासा में विचार क्रांति अभियान के तहत.. <<     BIG NEWS : नीमच का जिला अस्पताल और गर्भवती महिला, जब.. <<     वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन देने के.. <<     BIG NEWS : फिर सुर्खियों में आया बांछड़ा समुदाय, दो.. <<     KHABAR : दसवें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस समारोह के.. <<     वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन देने के.. <<     KHABAR : जल गंगा संवर्धन अभियान के तहत नीमच के करंट.. <<     KHABAR : जिले में स्कूल चले हम अभियान के तहत.. <<     वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन देने के.. <<     REPORT : जलगंगा संवर्धन अभियान, नपा ने सरस्‍वती.. <<     KHABAR : अंतिम दिन किलेश्‍वर मंदिर घाट के यहां.. <<     वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन देने के.. <<     KHABAR : जल गंगा संवर्धन अभियान के तहत जिले में.. <<     REPORT : अनुविभागीय अधिकारी मनीषा वास्कले की.. <<     वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन देने के.. <<     KHABAR : पीएम किसान सम्मान निधि योजना की 17वीं.. <<     BIG NEWS : तृतीय खंड के समस्त अफीम लंबरदारों व.. <<     वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन देने के.. <<    
वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन के लिए..
May 28, 2024, 7:12 pm
KHABAR : बाढ़ राहत संबंधी बैठक में कलेक्टर ने दिए आवश्यक दिशा-निर्देश, बोले- वर्षाकाल में संभावित बाढ़, अतिवृष्टी से बचाव के पुख्ता इंतजाम करें, पढ़े खबर

Share On:-

नीमच। वर्षाकाल में बाढ़ एवं अतिवृष्टि से उत्पन्न समस्याओं से निपटने और जन सुरक्षा के लिए किए जाने वाले उपायों के संबंध में कलेक्टर दिनेश जैन की अध्यक्षता में मंगलवार को बैठक आयोजित की गई।बैठक में अतिवर्षा एवं बाढ़ की स्थिति से निपटने की तैयारी के संबंध में शासन से प्राप्त निर्देशों पर बिंदुवार विचार विमर्श कर, बाढ़ प्रभावित होने वाले ग्रामों ओर वहां की जाने व्‍यवस्‍थाओं की तैयारियो विस्‍तृत समीक्षा की गई। बैठक में एसपी अंकित जायसवाल, जिला पंचायत सीईओ गुरूप्रसाद व एडीएम लक्षमी गामड, डिप्‍टी कलेक्‍टर चंद्रसिह धार्वे, व सभी एसडीएम, सभी नगरीय निकायों के सीएमओएवं जिला अधिकारी उपस्थित थे।

पुल,रपटों की स्थिति एवं मरम्मत-
बैठक में कलेक्टर ने निर्देश दिए कि जिले की पुरानी क्षतिग्रस्त पुलियाओं को चिन्हित कर,  क्षतिग्रस्त पुलिया रेलिंग की मरम्मत कराये। ऐसे पुल पुलिया जो बाढ़ एवं अतिवृष्टि में डूब जाते हैं , उन पर निगाह रखी जावे। सभी पुलो एवं रपटों पर रेलिंग पिलर आदि ठीक हालत में लगे हो, जहां आवश्यक हो मरम्मत भी कराये।

जलमग्न सड़कों पर से वाहन चालक अपनी जोखिम वाहन ले जाने का प्रयास करते हैं। पुलों पर बाढ़ का पानी बढ़ने पर यातायात को नियंत्रित एवं चिन्हित कर चेतावनी बोर्ड लगाया जाए तथा पुल, पुलिया पर बाढ़ राहत के अन्तर्गत क्रय किये गये बैरिकेट्स लगाए। अतिवृष्टि होने से पुल पुलिया के ऊपर पानी बहने की स्थिति होने पर लोक निर्माण विभाग के कर्मचारी व होमगार्ड की ड्यूटी लगाएं। पुल पुलिया पर चिन्हित खतरे वाली स्थिति में कोई वाहन पार न हो। उल्‍लघंन करने पर दोषी वाहन चालकों के विरूद्ध कार्यवाही की जावे। मार्ग में यदि कोई वाहन क्षतिग्रस्त हो जाए, तो उसे निकालने हेतु जहां तक संभव हो क्रेन की तत्काल व्यवस्था की जाए।

बाढ़ प्रभावित गांवों में पेयजल व्यवस्था-
कलेक्टर ने निर्देश दिए कि गांधी सागर बांध एवं अन्य संभावित डूब प्रभावित गांवों में बंद पड़े हैंडपंपों का निरीक्षण कर एक सप्ताह में अनिवार्य रुप से चालू कराये, और जिन क्षेत्रों में पेयजल स्त्रोत बाढ़ के पानी से गिर जाएं। ऐसे क्षेत्र में पेयजल उपलब्ध कराने हेतु वैकल्पिक स्त्रोंतों को चिन्हांकित कर लिया जावे। बाढ़ एवं वर्षा का पानी भर जाने से प्रभावित होने से बीमारियों का प्रकोप होने की संभावना रहती है। ऐसे क्षेत्रों के कुओं आदि में ब्लीचिंग पाउडर क्लोरीन डलवाने की व्यवस्था की जावे। संपर्क विहीन ग्रामों की पंचायतों में आवश्‍यक, पर्याप्‍त खाद्य सामग्री प्राथमिकता से उपलब्ध कराई जाना सुनिश्चित करें। वर्षाकाल में स्वच्छ पेयजल उपलब्धता पर विशेष ध्यान दिया जाए।                             

मोटरबोट एवं नावों की व्यवस्था-
कलेक्टर ने निर्देश दिए, कि जल संसाधन विभाग व मत्स्य पालन विभाग के पास  उपलब्ध मोटरबोट का परीक्षण कर चालू स्थिति में रखा जावे। आवश्यकता होने पर मत्स्य महासंघ रामपुरा के मोटरबोट एवं नावों को उपयोग में लिया जावे। बाढ़ नियंत्रण हेतु उपलब्ध शासकीय अर्द्धशासकीय एवं निजी स्त्रोंतों से उपलब्ध होने वाली समस्त बाढ़ बचाव सामग्री की सूची तैयार की जावें, किसके आधिपत्य में हैं उनसे संपर्क हेतु नाम पता दूरभाष क्रमांक आदि की जानकारी भी तैयार की जाए।

बचाव सामग्री की व्यवस्थाः-बैठक में निर्देश दिए गए, कि बाढ़ से बचाव एवं राहत सामग्री तथा लालटेन, खाली ड्रम, रस्सियां, बांस, बल्ली, टांर्च, ट्यूब, केरोसीन एवं अन्य राहत सामग्री की अग्रिम व्यवस्था प्रत्येक नियंत्रण कक्ष पर की जावे। सभी अनुविभागीय अधिकारी इसकी समीक्षा कर पता लगाएं, कि उपलब्ध सामग्री पर्याप्त है या नहीं आवश्यकता होने पर सामग्री की मांग की जावे ।          

पहुंच विहीन ग्रामों में खाद्य सामग्री आदि की व्यवस्था- 
वर्षाकाल में अतिवृष्टि एवं बाढ़ से जिले के ऐसे ग्राम जिनका वर्षाकाल में मुख्यालय के पहुंच मार्ग से सड़क संपर्क टूट जाता है, उन्हें चिन्हित कर, ऐसे गांवों में आवश्यक खाद्य सामग्री, मिट्टी का तेल, दवाइयां आदि की पर्याप्त व्यवस्था अविलंब वर्षा प्रारंभ होने से पूर्व की जा रहे माह जून एवं जुलाई का कोटा अग्रिम देने की व्यवस्था की जाए।                          

वर्षाकाल में संक्रामक रोगों से बचाव एवं रोकथाम- 
वर्षा से संक्रामक बीमारियां जैसे, हैजा,आंखों की बीमारी आदि अन्य बीमारियों से बचाव के लिए टीकाकरण किया जावें। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र सिविल डिस्पेंसरी आयुर्वेदिक औषधि पर हेजे के टीके एवं अन्य संभावित संक्रामक बीमारियों से सुरक्षा के लिए आवश्यक जीवन रक्षक औषधियां पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध कराई जाएं। सभी गांव में डिपो, होल्डर एवं जन स्वास्थ्य रक्षक आदि को भी आवश्यक जीवन रक्षक दवाइयां उपलब्ध कराये।

पशुओं की बीमारियों से बचाव-
बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के ग्रामों में पशुओं की बीमारी से रोकथाम के लिए सभी पशु चिकित्सकों को पर्याप्त मात्रा में वैक्सीन की डोज व अन्य आवश्यक दवाइयां पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध कराई जाए। पशुओं का टीकाकरण प्रारंभ किया जाए। बाढ प्रभावित क्षैत्रों में प्रशिक्षण शिविर लगाये तथा आवश्यक होने पर उप संचालक पशु चिकित्सा, एसडीएम के सहयोग से आवश्यक कार्रवाई करें।

शहरों मे नालियों की सफाई-
बैठक में कलेक्टर ने निर्देश दिए, कि बाढ़ की स्थिति में शहरों अथवा आबादी से लगे नदी नाले, घरों की सफाई वर्षा पूर्व 15 जून 2024 तक करवाई जाये। यह सुनिश्चित कर लिया जाए, कि नालियों के चोक होने से आवासीय बस्ती में बाढ़ का पानी घुसने की संभावना नहीं है। ऐसी बस्तियां जो नदी नालों के किनारे तथा निचले क्षेत्रों में अनाधिकृत रूप से बस्ती है, वहां जल स्तर बढ़ने पर बाढ़ आने की संभावना ना रहे, ऐसी बस्तियों को आवश्यकता होने पर अन्यत्र वैकल्पिक स्थान पर बसाने संबंधी स्थान को चिन्हित करने संबंधी कार्यवाही पूर्व से की जाना सुनिश्चित करें।

बांधों वजलाशयों की मरम्मत- 
कलेक्टर ने निर्देश दिए कि जिले में स्थित सभी पुराने बांधों तालाबों की पालों का निरीक्षण कर, आवश्यकतानुसार मरम्मत तत्काल करें। नव निर्मित बांध,तालाब पर भी निगरानी रखी जावे।                                                                      

नियंत्रण कक्ष-
बैठक में जिला स्तर पर बाढ़ नियंत्रण कक्ष स्थापना का निर्णय लिया गया। नीमच जिले का नियंत्रण कक्ष पुलिस कंट्रोल रूम फोन नंबर 228000 व 100 रहेगा। तहसील नीमच का नियंत्रण कक्ष तहसील कार्यालय पर होगा। जिसका दूरभाष नम्बर 227316 रहेगा। नियंत्रण कक्ष कार्यालयीन समय में कार्यशील रहेगा एवं बाढ़ एवं तथा अतिवृष्टि की स्थिति अनुसार नियंत्रण कक्ष को 24 घंटे क्रियाशील रहेगा। प्रभारी अधिकारी बाढ़ संबंधित जानकारी से पूर्ण रहेंगे।

बाढ़ की स्थिति में प्राप्त सूचना तत्काल कलेक्टर पुलिस अधीक्षक अपर कलेक्टर अनुविभागीय अधिकारी तथा भू-अभिलेख अधीक्षक नीमच को देंगे। मनासा एवं जावद उपखंड एवं तहसील स्तरीय बाढ़ नियंत्रण कक्ष 15 जून 2024 से क्रियाशील रहेगें।

जिले में सूचना प्रसारण-
बाढ़ एवं अतिवृष्टि की सूचना जिला नियंत्रण कक्ष द्वारा संबंधित क्षेत्र के पुलिस स्टेशन एवं राजस्व अधिकारियों को सूचना दी जावेगी एवं जनसंपर्क अधिकारी के माध्यम से स्थानीय समाचार पत्रों में प्रकाशित भी कराई जावेगी ।

वर्षा की जानकारी-
जिले में सभी पुलिस स्टेशनों पर वायरलेस सुविधा उपलब्ध है, सभी वायरलेस सेट निरंतर चालू रहे, ऐसी व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। सभी थाना प्रभारियों को निर्देशित किया गया, कि वर्षा बाढ़ संबंधी जानकारी प्राप्त होने पर तत्काल कलेक्टर कार्यालय व कंट्रोल रुम पर सूचना दें।

सभी तहसीलदार तहसील में स्थापित वर्षा मापक केंद्र पर प्रतिदिन की वर्षा का माप प्रातः 8 बजे पर करवाकर, भू-अभिलेख शाखा कलेक्टर कार्यालय नीमच को भेजने की व्यवस्था सुनिश्चित करें, ताकि प्रातः10.00 बजे तक आयुक्त उज्जैन संभाग उज्जैन व अन्य कार्यलयों को जिले की वर्षा की जानकारी भेजी जा सके। बिलंब से वर्षा जानकारी भेजने की स्थिति में तहसीलदार व्यक्तिगत रूप से उत्तरदायी रहेंगे। तहसीलदार मनासा, जावद एवं नीमच अपने-अपने क्षेत्र के अंतर्गत जिन नदी नालों में बाढ़ उफान पर आ जाते हैं, उन क्षेत्रों में पूर्वानुमान से राहत कार्यों में जुट जाएगी। सभी विभागों के अधिकारी-कर्मचारीगण अपने दायित्वों का निष्ठापूर्वक पालन करेगें।

VOICE OF MP
एडिटर की चुनी हुई ख़बरें आपके लिए
SUBSCRIBE