BREAKING NEWS
BIG NEWS : मंदसौर जिले का ग्राम गोपालपुरा और शराब.. <<     गोवंश से भरा ट्रक हिंदू संगठन के लोगों ने.. <<     वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन देने के.. <<     OMG: नीमच में ’’सिंघम मोड’’ में सूबेदार सोनू.. <<     KHABAR : नीमच के सीएसवी अग्रोहा भवन में बालिकाओं व.. <<     वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन देने के.. <<     KHABAR : योग से मनुष्य का शारीरिक, मानसिक एवं.. <<     शिवपुरी में रोंगटे खड़े कर देने वाली घटना, 5.. <<     KHABAR : नीमच में पल्‍स पोलियों जागरूकता रैली का.. <<     SHORTS VIDEO : भोपाल, इंदौर-जबलपुर में अगले 48 घंटे में.. <<     LIVE : जागो नीमच जागो, नीमच मांगे चंबल का पानी, आज.. <<     वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन देने के.. <<     REPORT : संभागीय पर्यवेक्षक पाराशर ने नीमच में.. <<     KHABAR : प्रभात पाराशर ने किया जिले में वर्ष 2024-25 की.. <<     वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन देने के.. <<     REPORT : कलेक्‍टर ने ली राजस्‍व अधिकारियों की.. <<     BIG NEWS : नीमच जिले का सरवानिया बोर और 22 साल का युवा,.. <<     वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन देने के.. <<     BIG NEWS : पिपलिया मंडी थाना क्षेत्र का ग्राम.. <<     BIG NEWS : नीमच जिले का आलोरी गरवाड़ा और 3 साल का.. <<    
वॉइस ऑफ़ एमपी न्यूज़ चैनल में विज्ञापन के लिए..
May 27, 2023, 8:00 pm
BIG NEWS : क्रोध करने से घर की लक्ष्मी चली जाती है- पं माणकचंद मेनारिया, बिजलवास बामनिया के श्री शनिदेव प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर भागवत कथा आयोजन, पढ़े मोहन नागदा की खबर  

Share On:-

नीमच। बिजलवास बामनीया में कथा के चौथे दिन सैकड़ो की संख्या में श्रोताओं ने पंडित माणकचंद मेनारिया के श्रीमुख से कथा का श्रवण किया। भागवत कथा के चतुर्थ दिवस की शुरुआत भागवत आरती और विश्व शांति के लिए प्रार्थना के साथ की गई।

कथा की शुरुआत पंडित मेनारिया ने बहुत ही सुंदर भजन मीठे रस से भरी रे राधा रानी लागे से की उसके बाद पंडित माणकचंद मेनारिया ने बताया कि आज का मनुष्य पैसा कमाने के चक्कर में इतना व्यस्त हो गया है कि वो अपने परिवारजनों और रिश्तेदारों के कनेक्शन में रहने के बजाए मात्र उनके कॉन्टेक्ट का हिस्सा बन कर रह गया है।

पंडित मेनारिया ने बताया कि आज के जीव के लिए अच्छी बाते सीखना तो बहुत आसान है लेकिन बुरी आदतों को छोड़ना उसके लिए बड़ा मुश्किल है, लेकिन अगर जीव दृढ़ संकल्प कर लें तो वो जो चाहे वो कर सकता है बस ये विश्वास आपको अपने अंदर लाना होगा। पंडित मेनारिया ने बताया कि आज का व्यक्ति कर्म करने से पहले उसके फल के बारे में सोचने लगता है, लेकिन वो ये भूल जाता है की आप सिर्फ कर्म ही कर सकते है फल देना तो मेरे ठाकुर के हाथ में है। इसलिए आप जो भी कार्य करे उसे पूरी ईमानदारी और सच्ची निष्ठा के साथ करें क्यूंकि मेहनत का फल सदैव मीठा होता है।

पंडित माणकचंद मेनारिया ने श्रीमद्भागवत कथा चतुर्थ दिवस के प्रसंग का वृतांत सुनाते हुए बताया कि वामन अवतार भगवान विष्णु के दशावतारो में पांचवा अवतार और मानव रूप में अवतार था। जिसमें भगवान विष्णु ने एक वामन के रूप में इंद्र की रक्षा के लिए धरती पर अवतार लिया। वामन अवतार की कहानी असुर राजा महाबली से प्रारम्भ होती है। महाबली प्रहलाद का पौत्र और विरोचना का पुत्र था। महाबली एक महान शासक था जिसे उसकी प्रजा बहुत स्नेह करती थी। उसके राज्य में प्रजा बहुत खुश और समृद्ध थी। उसको उसके पितामह प्रहलाद और गुरु शुक्राचार्य ने वेदों का ज्ञान दिया था।

समुद्रमंथन के दौरान जब देवता अमृत ले जा रहे थे तब इंद्रदेव ने बाली को मार दिया था जिसको शुक्राचार्य ने पुनः अपन मन्त्रो से जीवित कर दिया था। महाबली ने भगवान ब्रह्मा को प्रसन्न करने के लिए तपस्या की थी जिसके फलस्वरूप भगवान ब्रह्मा ने प्रकट होकर वरदान मांगने को कहा। बाली भगवान ब्रह्मा के आगे नतमस्तक होकर बोला प्रभु, मै इस संसार को दिखाना चाहता हूँ कि असुर अच्छे भी होते हैं। मुझे इंद्र के बराबर शक्ति चाहिए और मुझे युद्ध में कोई पराजित ना कर सके। भगवान ब्रह्मा ने इन शक्तियों के लिए उसे उपयुक्त मानकर बिना प्रश्न किये उसे वरदान दे दिया। शुक्राचार्य एक अच्छे गुरु और रणनीतिकार थे जिनकी मदद से बाली ने तीनो लोकों पर विजय प्राप्त कर ली। बाली ने इंद्रदेव को पराजित कर इंद्रलोक पर कब्जा कर लिया। एक दिन गुरु शुक्राचार्य ने बाली से कहा अगर तुम सदैव के लिए तीनो लोकों के स्वामी रहना चाहते हो तो तुम्हारे जैसे राजा को अश्वमेध यज्ञ अवश्य करना चाहिए। बाली अपने गुरु की आज्ञा मानते हुए यज्ञ की तैयारी में लग गया। बाली एक उदार राजा था जिसे सारी प्रजा पसंद करती थी। इंद्र को ऐसा महसूस होने लगा कि बाली अगर ऐसे ही प्रजापालक रहेगा तो शीघ्र सारे देवता भी बाली की तरफ हो जायेंगे। इंद्रदेव देवमाता अदिति के पास सहायता के लिए गए और उन्हें सारी बात बताई। देवमाता ने बिष्णु भगवान से वरदान माँगा कि वे उनके पुत्र के रूप में धरती पर जन्म लेकर बाली का विनाश करें। जल्द ही अदिति और ऋषि कश्यप के यहाँ एक सुंदर बौने पुत्र ने जन्म लिया।

पांच वर्ष का होते ही वामन का जनेऊ समारोह आयोजित कर उसे गुरुकुल भेज दिया। इस दौरान महाबली ने 100 में से 99 अश्वमेध यज्ञ पुरे कर लिए थे। अंतिम अश्वमेध यज्ञ समाप्त होने ही वाला था कि तभी दरबार में दिव्य बालक वामन पहुँच गया। महाबली ने कहा कि आज वो किसी भी व्यक्ति को कोई भी दक्षिणा दे सकता है। तभी गुरु शुक्राचार्य महाबली को महल के भीतर ले गये और उसे बताया कि ये बालक ओर कोई नहीं स्वयं भगवान विष्णु हैं वो इंद्रदेव के कहने पर यहाँ आए हैं और अगर तुमने इन्हें जो भी मांगने को कहा तो तुम सब कुछ खो दोगे। महाबली अपनी बात पर अटल रहे और कहा मुझे वैभव खोने का भय नहीं है बल्कि अपन प्रभु को खोने का है इसलिए मै उनकी इच्छा पूरी करूंगा। महाबली उस बालक के पास गया और स्नेह से कहा आप अपनी इच्छा बताइये। उस बालक ने महाबली की और शांत स्वभाव से देखा और कहा मुझे केवल तीन पग जमीन चाहिए जिसे मैं अपने पैरों से नाप सकूं। महाबली ने हँसते हुए कहा केवल तीन पग जमीन चाहिए, मैं तुमको दूँगा। जैसे ही महाबली ने अपने मुँह से ये शब्द निकाले वामन का आकार धीरे धीरे बढ़ता गया। वो बालक इतना बढ़ा हो गया कि बाली केवल उसके पैरों को देख सकता था। वामन आकार में इतना बढ़ा था कि धरती को उसने अपने एक पग में माप लिया। दुसरे पग में उस दिव्य बालक ने पूरा आकाश नाप लिया। अब उस बालक ने महाबली को बुलाया और कहा मैंने अपने दो पगों में धरती और आकाश को नाप लिया है। अब मुझे अपना तीसरा कदम रखने के लिए कोई जगह नहीं बची, तुम बताओ मैं अपना तीसरा कदम कहाँ रखूँ। महाबली ने उस बालक से कहा प्रभु, मैं वचन तोड़ने वालों में से नहीं हूँ आप तीसरा कदम मेरे शीश पर रखिये। भगवान विष्णु ने भी मुस्कुराते हुए अपना तीसरा कदम महाबली के सिर पर रख दिया। वामन के तीसरे कदम की शक्ति से महाबली पाताल लोक में चला गया। अब महाबली का तीनो लोकों से वैभव समाप्त हो गया और सदैव पाताल लोक में रह गया। इंद्रदेव और अन्य देवताओं ने भगवान विष्णु के इस अवतार की प्रशंशा की और अपना साम्राज्य दिलाने के लिए धन्यवाद दिया। इसके बाद पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में सभी भक्तों ने श्री कृष्ण जन्मोत्सव को बड़ी धूमधाम से मनाया। 

श्रीमद् भागवत कथा के पंचम दिवस पर भगवान कृष्ण की बाललीला, गोवर्धन पूजा, छप्पन भोग का वृतांत सुनाया जाएगा। पंडित माणकचंद मेनारिया ने कहा कि इंसान को क्रोध नहीं करना चाहिए क्योंकि क्रोध करने से घर की लक्ष्मी चली जाती है। शनिदेव की प्राण प्रतिष्ठा अवसर पर हो रही भागवत कथा का यह चतुर्थ दिवस था। मेवाड़ी और हिंदी की मिश्रण के रूप में पंडित जी के श्री मुख से और यह भागवत कथा को श्रोता मंत्रमुग्ध होकर सुन रहे हैं।

VOICE OF MP
एडिटर की चुनी हुई ख़बरें आपके लिए
SUBSCRIBE